क्या ये महज संयोग है कि पाकिस्तनी रक्षा मंत्री ख्वाजा मुहम्मद आसिफ ने GEO न्यूज़ को 17 सितंबर को दिए इंटरव्यू में कहा कि पाकिस्तान परमाणु हमले से संकोच नहीं करेगा और ठीक एक दिन बाद जम्मू कश्मीर के उरी में भारतीय सुरक्षा बालों पर आतंकी हमला हो जाता है.

1 सितंबर को एरोस्पेस की सेमिनार में एयर चीफ मार्शल अरूप राहा ने भारत की ताक़त के बारे में चेतावनी दी थी और कहा कि अगर भारत ने सैन्य विकल्प चुना होता तो गुलाम कश्मीर भी देश के पास होता. उन्होंने यह भी कहा कि 1971 में हुए भारत-पाक युद्ध तक भारत सरकार ने वायु सैन्य शक्ति का भरपूर इस्तेमाल नहीं किया. इसे निश्चित ही पाकिस्तान को चेतावनी के तौर पर देखना चाहिए.

उरी की घटना सचमुच दुर्भाग्य पूर्ण है. अगर हम 2016 से देखें तो अब तक इस तरह की आतंकी घटनाओं में करीब 120 आतंकवादी मारे गए जबकि 65 भारतीय जवान शहीद हो चुके हैं. इसे बिल्कुल पाकिस्तान की तरफ से अप्रत्यक्ष युद्ध के रूप में देखा जा सकता है. लेकिन इन सबके बावजूद पाकिस्तान ही परमाणु हमले की धमकी भी देता रहता है

Post A Comment: